Hindi Motivational Story: Kaise Ho Safal – कैसे हों सफल


नयी नौकरी से मोहन बहुत उत्साहित था, वह जंगल गया और पहले ही दिन 18 पेड़ काट डाले। व्यापारी ने भी मोहन को शाबाशी दी , शाबाशी सुनकर मोहन और गदगद हो गया और अगले दिन और ज्यादा मेहनत से काम किया। लेकिन ये क्या ? वह केवल 15 पेड़ ही काट पाया। व्यापारी ने कहा – कोई बात नहीं मेहनत करते रहो।

तीसरे दिन उसने और ज्यादा जोर लगाया लेकिन केवल 10 पेड़ ही ला सका। अब मोहन बड़ा दुखी हुआ लेकिन वह खुद नहीं समझ पा रहा था क्युकी वह रोज पहले से ज्यादा काम करता लेकिन पेड़ कम काट पाता। हारकर उसने व्यापारी से ही पूछा – मैं सारे दिन मेहनत से काम करता हूँ लेकिन फिर भी क्यों पेड़ों की संख्या कम होती जा रही है। व्यापारी ने पूछा – तुमने अपनी कुल्हाड़ी को धार कब लगायी थी। मोहन बोला – धार ? मेरे पास तो धार लगाने का समय ही नहीं बचता मैं तो सारे दिन पेड़ कटाने में व्यस्त रहता हूँ। व्यापारी – बस इसीलिए तुम्हारी पेड़ों की संख्या दिन प्रतिदिन घटती जा रही है।

मित्रों यही बात हमारे जीवन पर भी लागू होती है , हम रोज सुबह नौकरी पेशा करने जाते हैं , खूब काम करते हैं पर हम अपनी कुल्हाड़ी रूपी Skills को Improve नहीं करते हैं। हम जिंदगी जीने में इतने ज्यादा व्यस्त हो जाते हैं कि अपने शरीर को भी कुल्हाड़ी की तरह धार नहीं दे पाते और फलस्वरूप हम दुखी रहते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

गरुड़ पुराण (Garuda Purana): किस चीज से क्या नष्ट हो जाता है?

शास्त्रानुसार यदि आपकी पत्नी में है ये गुण, तो आप है भाग्यशाली

Shrimad Bhagavad Gita : ध्यान रखें गीता में बताई गई ये बातें, वरना बढ़ता है वजन