बोध कथा – लोमड़ी की तरह नहीं, शेर की तरह बनो

शेर ने एक हिरन का शिकार किया था और उसे अपने जबड़े में दबा कर लोमड़ी की तरफ बढ़ रहा था। उसने लोमड़ी पर हमला नही किया, बल्कि उसे खाने के लिए मांस के टुकड़े भी दे दिए। भिक्षु को यह देखकर और भी आश्चर्य हुआ कि शेर लोमड़ी को मारने की बजाय उसे भोजन दे रहा है।

भिक्षुक बुदबुदाया। उसे अपनी आँखों पर भरोसा नही हो रहा था। इसलिए वह अगले दिन फिर वही गया और छिप कर शेर का इंतजार करने लगा। आज भी वैसा ही हुआ। भिक्षुक बोला कि यह भगवान के होने का प्रमाण है। वह जिसे पैदा करता है, उसकी रोटी का भी इंतजाम कर देता है। आज से इस लोमड़ी की तरह मै भी ऊपर वाले की दया पर जिऊंगा। वही मेरे भोजन की व्यवस्था करेगा।

यही सोचकर वह एक वीरान जगह जा के बैठ गया। पहले दिन बिता, कोई नही आया। दूसरे दिन कुछ लोग आए ,पर किसी ने भिक्षुक की ओर नही देखा। धीरे धीरे उसकी ताकत खत्म हो रही थी। वह चल-फिर भी नही पा रहा था। तभी एक महात्मा वहा से गुजरे और भिक्षु के पास पहुँचे।

भिक्षु ने अपनी पूरी कहानी महात्मा को सुनाई और बोला,’आप ही बताए कि भगवान मेरे प्रति इतना निर्दयी कैसे हो गया ? किसी को इस हालात में पहुचना पाप नही है ?’

‘बिलकुल है’ , महात्मा जी ने कहा, लेकिन तुम इतने मुर्ख कैसे हो सकते हो ? क्यों नही समझते कि ईश्वर तुम्हे उस शेर की तरह बनते देखना चाहते थे,लोमड़ी की तरह नही।

जीवन में भी ऐसा ही होता है कि हमें चीजे जिस तरह समझनी चाहिए उसके विपरीत समझ लेते है। हम सभी के अंदर कुछ न कुछ ऐसी शक्तियां हैं, जो हमे महान बना सकती हैं। जरुरत है उन्हें पहचानने की,यह ध्यान रखने की कि कही हम शेर की जगह लोमड़ी तो नही बन रहे हैं।

Comments

Popular posts from this blog

गरुड़ पुराण (Garuda Purana): किस चीज से क्या नष्ट हो जाता है?

Shrimad Bhagavad Gita : ध्यान रखें गीता में बताई गई ये बातें, वरना बढ़ता है वजन

शास्त्रानुसार यदि आपकी पत्नी में है ये गुण, तो आप है भाग्यशाली